बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज क्या है? जाने हिन्दी में | What is Bombay Stock Exchange in Hindi

नमस्कार दोस्तों, आज हम इस आर्टिकल के द्वारा यह जानेंगे की बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज क्या है? (What is Bombay Stock Exchange?) और BSE का इतिहास क्या है? या बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज की शुरुआत केसे हुई? और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज केसे काम करता है? और BSE के इतिहास की कुछ मुख्य तरीखे। और ऐसे कई महत्व पूर्ण बातों को आज हम विस्तार से चर्चा करेंगे।

आपको बता दे की भारत मे दो प्रमुख Stock Exchange है, पहला बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) और दूसरा  नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) है। और यह बात तो आप भी जानते होंगे, लेकिन आपको यह जानकर आश्चर्य होगा की यह दो स्टॉक एक्सचेंज के अलावा भी और 8 Stock Exchange अभी भी कार्यरत है। लेकिन आज हम यहा BSE के बारे मे ही बात करेंगे।

Bombay Stock Exchange भारत का ही नहीं बल्कि एशिया के सबसे पुराने Stock Exchange के रूप में जाना जाता है। ईस, 1875 मे बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) की स्थापना हुई थी, या ऐसा कहे की भारत मे शेयर मार्केट की शुरुआत हुई थी। आज भारत के अलग-अलग क्षेत्रों तक बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज अपनी पहुंच बना चुका है। आज पूरे भारत के 418 शहरों तक BSE अपनी पहुंच है। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का आर्थिक बाजार में काफी ज्यादा महत्व होता है, क्योंकि बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) ने भारत को अंतरराष्ट्रीय वित्तीय बाजार में श्रेष्ठ स्थान दिलाने में बहोत मदद की है। तो चलिए दोस्तों, आज इस लेख से BSE को पूरी तरीके से और आसान भाषा मे समजने की कोशिश करतेहै।

Page Contents

BSE क्या है? | What is BSE in Hindi?

BSE जिसे हम सब बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के नाम से जानते है। Bombay Stock Exchange मुंबई में स्थित दलाल स्ट्रीट पर है। BSE की स्थापना प्रेमचंद रॉयचंद के द्वारा ईस.1875 में की गई थी। BSE को नेटिव शेयर एंड स्टॉक ब्रोकर्स एसोसिएशन के रूप में स्थापित किया गया था। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज एशिया का सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज है, इसके अलावा बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज दुनिया का दसवां सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज है।

आपको बता दे की जनवरी 2022 तक, BSE का ₹276.713 lakh crore (US$3.6 trillion) से अधिक Market capitalization के साथ बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज विश्व का 9वां सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में करीब 6,000 कंपनियों की listed है, और BSE दुनिया के सबसे बड़े एक्सचेंजों में से एक है, जेसे की न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज (NYSE), नैस्डैक, लंदन स्टॉक एक्सचेंज ग्रुप, जापान एक्सचेंज ग्रुप और शंघाई स्टॉक एक्सचेंज।

दोस्तों, बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ने खुदरा बाजार (retail market) सहित भारत के पूंजी बाजारों (capital markets) के विकास में मदद की है, और इसके अलावा भारतीय कॉर्पोरेट क्षेत्र मे भी BSE ने अहम भूमिका निभाई है। BSE मे छोटे और मध्यम उद्यमों (SME) के लिए स्टॉक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म शामिल है। बीएसई ने समाशोधन, निपटान और जोखिम प्रबंधन सहित अन्य पूंजी बाजार सेवाएं प्रदान करने के लिए विविधीकरण किया है।

यह भी पढ़ें,

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के बारे में | About Bombay Stock Exchange

नाम (Name):BSE का पूरा नाम बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE full form is Bombay Stock Exchange)
स्थान:दलाल स्ट्रीट मुंबई, भारत
स्थापित:9 जुलाई 1875; आज से 146 साल पहले.
बाजार पूंजीकरण:₹276.7 13 लाख करोड़ (US$3.6 ट्रिलियन) जनवरी 2022 तक।
मुद्रा:भारतीय रुपया (₹)
सूचीबद्ध कंपनी की संख्या:5261 Companies.
प्रमुख लोग:विक्रमजीत सेन – अध्यक्ष (Chairman)

आशीष चौहान – प्रबंध संचालक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (MD & CEO)
BSE के सभी सूचकांकों की सूची:
(List of BSE all Indices
)
































S&P BSE SENSEX
S&P BSE SENSEX Next 50
S&P BSE 100
S&P BSE Bharat 22 Index
S&P BSE MidCap
S&P BSE SmallCap
S&P BSE 200
S&P BSE 150 MidCap Index
S&P BSE 250 SmallCap Index
S&P BSE 250 LargeMidCap Index
S&P BSE 400 MidSmallCap Index
S&P BSE 500
S&P BSE AllCap
S&P BSE LargeCap
S&P BSE SmallCap Select Index
S&P BSE MidCap Select Index
S&P BSE 100 LargeCap TMC Index
S&P BSE Basic Materials
S&P BSE Consumer Discretionary Goods & Services
S&P BSE Energy
S&P BSE Fast Moving Consumer Goods
S&P BSE Finance
S&P BSE Healthcare
S&P BSE Industrials
S&P BSE Information Technology
S&P BSE Telecom
S&P BSE Utilities
S&P BSE AUTO
S&P BSE BANKEX
S&P BSE CAPITAL GOODS
S&P BSE CONSUMER DURABLES
S&P BSE METAL
S&P BSE OIL & GAS
S&P BSE Power
S&P BSE REALTY
S&P BSE TECK
BSE Official Website:www.bseindia.com
Basic Information of Bombay Stock Exchange

Note: यह सभी डाटा BSE की official site से लिया गया है।

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का इतिहास | History Of BSE

BSE का इतिहास जानने से पहले हमे यह जानना जरूरी है, की भारत मे शेयर मार्केट की शुरुआत केसे हुई यह जानना चाहिए। आपको बता दे कि भारत मे आजादी के 107 वर्ष पहले शेयर मार्केट की शुरुआत हो गई थी। शुरुआत मे मुंबई टाउनहॉल के पास बरगद के पेड़ के नीचे ही शेयरों की नीलामी होती थी। तब तकरीबन 20-25 लोग बरगद के पेड़ के इकट्ठा हो कर शेयरों की खरीद और बिक्री किया करते थे। धीरे धीरे निवेसको की संख्या बढ़ने लगी।

और फिर प्रेमचंद रॉयचंदजी के द्वारा ईस.1875 में भारत मे पेहले Stock Exchange का निर्माण हुआ, जिसे आज हम सब Bombay Stock Exchange (BSE) कहते है। जैसे कि पहले बताया गया है कि बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) एशिया का सबसे पुराना शेयर बाजार है। BSE को पहले नेटिव शेयर और ब्रोकर स्टॉक एसोसिएशन (The Native Share & Stock brokers Association) के नाम से पहचाना जाता था। साल ईस.1957 मे BSE को भारत सरकार ने सिक्योरिटी कॉन्ट्रैक्ट रेगुलेशन एक्ट, 1956 के तहत प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज की मान्यता मिली थी। साल 1995 में BSE ने ऑनलाइन ट्रेडिंग की शुरुआत की और उस दौरान इसकी क्षमता एक दिन में 8 मिलियन ट्रांसेक्शन हो गई थी।

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज कई सेवाएं प्रदान करती है। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाएं इस प्रकार है:-

  • मार्केट डेटा सर्विस (Market Data Service)
  • रिस्क मैनेजमेंट (Risk Management)
  • डिपॉजिट सर्विसेस (Deposit Services)
  • सेंट्रल डिपॉजिट सर्विसेस लिमिटेड आदि (Central Deposit Services Limited)

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE Full Form In Hindi) का पूंजीकरण जुलाई 2017 में 2 ट्रिलियन डॉलर से ज्यादा था। वर्तमान में एस. रवि इसके बोर्ड अध्यक्ष हैं। आशीष कुमार चौहान इसके CEO व मैनेजिंग डायरेक्टर है। BSE का एक Trading का Platform भी है जो की अहमदाबाद में स्थित है।

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) कैसे काम करता है?

1995 तक, बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज एक ओपन फ्लोर सिस्टम पर काम करता था। इसके बाद, यह एक इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग सिस्टम में स्थानांतरित हो गया जो न्यूयॉर्क स्टॉक एक्सचेंज और नैस्डैक द्वारा उपयोग किए जाने वाले दुनिया भर में काफी लोकप्रिय है। इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग सिस्टम के कुछ लाभ कम त्रुटियां, तेज निष्पादन और बेहतर दक्षता हैं।

इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग सिस्टम ने प्रत्यक्ष बाजार पहुंच को सक्षम करके बाहरी विशेषज्ञों की आवश्यकता को समाप्त कर दिया है। इस कदम ने व्यक्तिगत खरीदारों और विक्रेताओं से ध्यान एक दिन में लेनदेन की कुल संख्या पर स्थानांतरित कर दिया है। हालांकि बड़ी मात्रा में लेन-देन में संलग्न कुछ निवेशकों को प्रत्यक्ष निवेश पहुंच प्रदान की जाती है, बीएसई ऑनलाइन में ट्रेडिंग एक निर्धारित शुल्क के लिए डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट और ब्रोकरेज हाउस के माध्यम से की जाती है।

T+2 रोलिंग सेटलमेंट के माध्यम से सभी लेनदेन दो दिनों के भीतर संसाधित किए जाते हैं। SEBI लगातार नियमों को अद्यतन करके और पूरी तरह से कार्यान्वयन सुनिश्चित करके इस स्टॉक एक्सचेंज के सुचारू संचालन को सुनिश्चित करता है।

बीएसई में सूचीबद्ध प्रतिभूतियों में शामिल हैं –

– स्टॉक, स्टॉक फ्यूचर्स और स्टॉक विकल्प

– सूचकांक वायदा और सूचकांक विकल्प

– साप्ताहिक विकल्प

सेंसेक्स 1986 से बीएसई के समग्र प्रदर्शन को मापता है। यह एक फ्री-फ्लोटिंग मार्केट-वेटेड बेंचमार्क इंडेक्स है जिसमें 12 क्षेत्रों में BSE के सबसे अधिक कारोबार वाले शेयरों में से तीस शामिल हैं और इसे BSE 30 के रूप में जाना जाता है। इसकी समावेशिता इसे भारतीय का एक शानदार प्रतिनिधि बनाती है। सेंसेक्स अनिवार्य रूप से भारत में तीस अच्छी तरह से स्थापित और वित्तीय रूप से मजबूत कंपनियों के प्रदर्शन के आधार पर बाजार में निवेशकों के विश्वास को दर्शाता है।

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज द्वारा उपलब्ध कराए गए कुछ अन्य क्षेत्रीय सूचकांक हैं –

  1. -S&P BSE Basic Materials
  2. S&P BSE Consumer Discretionary Goods & Services
  3. S&P BSE Energy
  4. S&P BSE Fast Moving Consumer Goods
  5. S&P BSE Finance
  6. S&P BSE Healthcare
  7. S&P BSE Industrials
  8. S&P BSE Information Technology
  9. S&P BSE Telecom
  10. S&P BSE Utilities
  11. S&P BSE AUTO
  12. S&P BSE BANKEX
  13. S&P BSE CAPITAL GOODS
  14. S&P BSE CONSUMER DURABLES
  15. S&P BSE METAL
  16. S&P BSE OIL & GAS
  17. S&P BSE Power
  18. S&P BSE REALTY
  19. S&P BSE TECK

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज मे लिस्टिंग के फायदे

 दोस्तों, BSE मे कंपनी को केरने के कई फायदे है, जिनमे महत्व पूर्ण फायदे नीचे विस्तार से बताए गए है।

BSE में सूचीबद्ध कंपनियां निवेशकों के भरोसे का आनंद लेती हैं। मंच की पारदर्शिता को देखते हुए, व्यक्ति कंपनियों के प्रदर्शन पर सार्वजनिक रूप से उपलब्ध डेटा बिंदुओं का विश्लेषण कर सकते हैं और तदनुसार निवेश कर सकते हैं। यह ट्रस्ट तैयार निवेशकों से पूंजी जुटाने की चाहत रखने वाली कंपनियों के लिए फायदेमंद है।

बीएसई में सूचीबद्ध कंपनियों की प्रतिभूतियों में खरीदारों का बाजार तैयार है। और, अर्थव्यवस्था में तरलता लाने में बीएसई की भूमिका को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है।

बीएसई का इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग सिस्टम पूरी प्रक्रिया को आसान बनाता है। इस प्रकार, निवेशकों को जरूरत पड़ने पर अपने निवेश को भुनाने की क्षमता और आत्मविश्वास प्रदान करना।

सेबी के पास BSE में सूचीबद्ध कंपनियों के लिए कड़े आदेश हैं, जिन्हें समय-समय पर अपडेट किया जाता है। इस प्रकार, निर्धारित नियमों को लागू करने के लिए कंपनियों पर कड़ी निगरानी रखी जाती है, जिससे धोखाधड़ी करने वाली कंपनियों के एक्सचेंज में आने की संभावना कम हो जाती है। यह पर्यवेक्षण व्यवसायों की गलत व्याख्या के परिणामस्वरूप निवेशकों को होने वाले नुकसान के जोखिम को नाटकीय रूप से कम करता है।

यह आवधिक सूचना प्रकटीकरण प्रक्रिया में पारदर्शिता को बढ़ाता है और निवेशकों को अधिक सूचित निर्णय लेने में मदद करता है।

बीएसई पर सिक्योरिटीज ट्रेडिंग के लिए कुशल मूल्य निर्धारण नियम हैं। कीमतों का निर्धारण मांग और आपूर्ति पैटर्न के आधार पर किया जाता है, जो किसी भी समय किसी शेयर के वास्तविक मूल्य को दर्शाता है।

अधिकांश वित्तीय संस्थान बीएसई में सूचीबद्ध प्रतिभूतियों को ऋण के खिलाफ संपार्श्विक के रूप में स्वीकार करते हैं। इस तरह के शेयरों में निवेश अमूल्य है क्योंकि महान रिटर्न की पेशकश के अलावा, वे व्यापारियों को अपने व्यवसाय में निवेश करने के लिए इन शेयर प्रमाणपत्रों को गिरवी रखकर पूंजी तक पहुंचने में भी मदद करते हैं।

बीएसई पर सूचीबद्ध कंपनियों द्वारा नियमित रूप से प्रकाशित सूचनाओं में शामिल हैं:-
  • कुल राजस्व सृजन
  • पुनर्निवेश पैटर्न
  • कुल वितरित लाभांश
  • बोनस और ट्रांसफर के मुद्दे
  • बुक-टू-क्लोजर सुविधाएं और भी बहुत कुछ

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज(BSE) की उपलब्धियां

चलिए, अब बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के इतिहास की उपलब्धिया के प्रमुख तरीखों पर एक नजर डालते है।

9 जुलाई 1875” THE NATIVE STOCK BROKER ASSOCIATION” की स्थापना,
2 फरवरी 1921बैंक ऑफ इंडिया द्वारा शुरू किया गया क्लियरिंग हाउस
31 अगस्त 1957बीएसई ने प्रतिभूति अनुबंध (विनियमन) अधिनियम (SCRA) के तहत स्थायी मान्यता प्रदान की
2 जनवरी 1986S&P BSE SENSEX, देश के पहले STOCK EXCHANGE INDEX की स्थापना (Base Year:1978-79 =100)
10 जुलाई 1987निवेशक सुरक्षा कोष (IPF) पेश किया गया
3 जनवरी 1989बीएसई प्रशिक्षण संस्थान (BTI) का उद्घाटन
25 जुलाई 1990BSE SENSEX 1000 के ऊपर पंहुचा
15 जनवरी 1992BSE SENSEX 2000 के ऊपर बंद हुआ
30 मार्च 1992BSE SENSEX 4000 के पार पहुचा
12 अप्रैल 1992STOCK EXCHANGE विकास और नियंत्रण के लिए SEBI की स्थापना
14 मार्च 1995BSE ONLINE TRADING ( BOLT ) की शुरुआत
22 मार्च 1999CDSL की स्थापना
11 अक्टूबर 1999BSE SENSEX  पहली बार 5000 के ऊपर
9 जुलाई 2000EQUITY DERIVATIVE में OPTION और FUTURE TRADING की शुरुआत
1 अप्रैल 2003T+2 SETTLEMENT की शुरुआत
2 जून 2004BSE SENSEX पहली बार 6000 से अधिक बंद हुआ
8 अगस्त 2005बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज लिमिटेड का निगमन
19 अगस्त 2005बीएसई एक कॉर्पोरेट इकाई बन गया
7 फरवरी 2006BSE SENSEX 10000 के पार पहुचा
10 जनवरी 2008BSE SENSEX अपने लाइफ टाइम हाई 21206.77 पर पहुचा
1 अक्टूबर 2008मुद्रा संजात (Currency Derivatives) पेश किया गया
9 जनवरी 2017भारत के माननीय प्रधान मंत्री, श्री नरेंद्र मोदी ने इंडिया इंटरनेशनल एक्सचेंज (IFSC) लिमिटेड, भारत के पहले अंतर्राष्ट्रीय एक्सचेंज का उद्घाटन किया
3 फरवरी 2017BSE, भारत का पहला LISTED STOCK EXCHANGE बना
17 जुलाई 2018BSE बिल्डिंग को ट्रेडमार्क मिला
Achievements of Bombay Stock Exchange (BSE)

यह भी पढ़ें,

Demat account को आसान भाषा मे जाने।

open Free Demat and trading account in Upstox, and get more rewards

निष्कर्ष

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज देश के वित्तीय बाजारों को विनियमित करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, जबकि सेंसेक्स बाजार की भावनाओं में अंतर्दृष्टि प्रदान करता है। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज प्रौद्योगिकी, उत्पाद नवाचार और ग्राहक सेवा में सर्वश्रेष्ठ-इन-क्लास वैश्विक प्रथाओं के साथ प्रमुख भारतीय स्टॉक एक्सचेंज के रूप में उभरने के अपने दृष्टिकोण को साकार करने की दिशा में अपनी यात्रा में काफी प्रगति कर रहा है।

शेयर बाजार मे निवेश करने से पहले हमे शेयर मार्केट को विस्तार से समज लेना जरूरी है, शेयर मार्केट मे बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) अहम भूमिका निभाता है। क्यों की भारत मे शेयर मार्केट की नीव ही बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज है।

आज हमने यह जाना की बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज क्या है। (what is Bombay Stock Exchange) इसके अलावा हमने यह भी जाना की BSE का इतिहास क्या है, BSE केसे काम करता है, और हमने यह भी जाना की बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ने इतने सालों मे क्या क्या उपलब्धिया हासिल की है। दोस्तों, यह सभी पॉइंट को हमने इस लेख के द्वारा विस्तार से बताने की कोशिश की है, फिर भी यदि कोई पॉइंटस् रह गया हो तो आप हमे बेजीजक बताइए हम उसे प्रकाशित करेंगे।

यह Article को पूरा पढ़ने के लिए आपका बहुत धन्यवाद,

आपको हमारा यह आर्टिकल ( बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज क्या है? जाने हिन्दी में | What is Bombay Stock Exchange in Hindi ) केसा लगा Comment करके हमे जरूर बताए। अगर यह आर्टिकल से आपको सही जानकारी मिली हो, तो अपने दोस्तों को भी Share करिए। और ऐसी ही Share Market Daily updates और Share market की basic जानकारी के लिए Social media पर हमे Join करें।

FAQ

BSE का पूरा नाम क्या है?

BSE का पूरा नाम बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज हैं। The full name of BSE is Bombay Stock Exchange. The full form of BSE is Bombay Stock Exchange.

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज की स्थापना कब हुई थी?

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज की स्थापना प्रेमचंद रॉयचंद के द्वारा ईस.1875 में की गई थी। BSE को नेटिव शेयर एंड स्टॉक ब्रोकर्स एसोसिएशन के रूप में स्थापित किया गया था। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज भारत और एशिया का सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज है।

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का मुख्यालय कहा है।

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) का मुख्यालय मुंबई स्थित दलाल स्ट्रीट के पास है।

एशिया का सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज कौन सा है?

एशिया का सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज है। और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज दुनिया का 10वां सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज हैं।

BSE के अध्यक्ष (Chairman) कोन है?

हाल मे BSE के अध्यक्ष (Chairman) श्री विक्रमजीत सेन हैं।

BSE के प्रबंध संचालक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (MD & CEO) कोन है?

हाल मे BSE के प्रबंध संचालक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (MD & CEO) श्री आशीष चौहान हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.